लखीमपुर  बवाल : ड्राइवर हरिओम के कपड़ों के सवाल पर उलझा आशीष, गिरफ्तार

0 0
Read Time:4 Minute, 45 Second

लखीमपुर में हुई हिंसा का मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। इससे पहले उससे करीब 12 घंटे पूछताछ हुई। उसके जवाबों से पुलिस के अधिकारी संतुष्ट नहीं हुए। सबसे बड़ा सवाल यही था कि वह हिंसा के वक्त कहां था? थार जीप कौन चला रहा था? आशीष ने जवाब दिया कि वह दंगल में था। थार जीप ड्राइवर हरिओम चला रहा था, जिसकी घटना में मृत्यु हो गई।

अफसरों ने आशीष से पूछा कि ड्राइवर हरिओम ने क्या पहना था? आशीष ने जवाब दिया कि हरिओम ने पीले रंग की शर्ट पहन रखी थी, जबकि किसानों को कुचलते वक्त के वायरल वीडियो में थार जीप का ड्राइवर सफेद शर्ट में था। हरिओम के शव का जब पोस्टमार्टम किया गया तो वह पीले रंग की शर्ट में था।

Advertisement

14 दिन की ज्युडिशियल कस्टडी में भेजा गया जेल :
मजिस्ट्रेट ने आशीष मिश्रा उर्फ मोनू को 14 दिन के लिए ज्युडिशियल कस्टडी में जेल भेजा है। यह आदेश स्पेशल रिमांड मजिस्ट्रेट दीक्षा भारती ने दिया। आशीष से पूछताछ के लिए पुलिस ने कस्टडी रिमांड की अर्जी दी है। कस्टडी रिमांड की अर्जी पर अब 11 अक्टूबर को कोर्ट में सुनवाई होगी। आशीष पर मर्डर, एक्सीडेंट में मौत, आपराधिक साजिश और लापरवाही से वाहन चलाने की धाराओं में केस दर्ज किया गया है।

मजिस्ट्रेट के सामने उसके बयान दर्ज किए गए हैं। आशीष का क्राइम ब्रांच में ही मेडिकल टेस्ट हुआ। DIG उपेंद्र कुमार ने बताया कि आशीष मिश्रा जांच में सहयोग नहीं कर रहा। कुछ सवालों के जवाब भी नहीं दे सका, इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया है। वहीं, आशीष को क्राइम ब्रांच में VIP ट्रीटमेंट मिला। उसे मेडिकल परीक्षण के लिए लखीमपुर जिला अस्पताल ले जाया गया। इसके लिए इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. अखिलेश कुमार क्राइम ब्रांच में पहुंचे और मेडिकल टेस्ट किया। इससे पहले आशीष घटना के सातवें दिन शनिवार को क्राइम ब्रांच के सामने सुबह 10:36 पर पेश हुआ। इस दौरान उसने रुमाल से अपना मुंह छिपा रखा था और पिछले दरवाजे से एंट्री की थी।

12 घंटे की पूछताछ में 14 बार भेजा गया चाय-नाश्ता
क्राइम ब्रांच में पूछताछ के दौरान 14 बार चाय और नाश्ता अंदर गया। आशीष मिश्रा के साथ उसके वकील अवधेश सिंह, मंत्री अजय मिश्र टेनी के प्रतिनिधि अरविंद सिंह संजय और भाजपा के सदर विधायक योगेश वर्मा भी अंदर मौजूद रहे। क्राइम ब्रांच के दफ्तर में SDM सदर भी मौजूद रहे।पूछताछ में 10 एफिडेविट और एक पेन ड्राइव के साथ दो मोबाइल पेश किए गए। इनसे SIT संतुष्ट नहीं दिखी। बताया जा रहा है कि 13 वीडियो SIT को दिए गए हैं। इनकी जांच फॉरेंसिक एक्सपर्ट करेंगे।

आशीष ने दंगल में होने के वीडियो पेश किए : आशीष से 6 लोगों की टीम ने पूछताछ की। लखीमपुर में क्राइम ब्रांच के दफ्तर में आशीष मिश्रा से मजिस्ट्रेट के सामने सवाल-जवाब किए गए। आशीष अपने वकील के साथ मौजूद रहा। पूछताछ में डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल और लखीमपुर के एसडीएम भी शामिल रहे। आशीष मिश्रा ने अपने पक्ष में कई वीडियो पेश किए। उन्होंने 10 लोगों के बयान का हलफनामा भी पेश किया, जो बताते हैं कि वह काफिले के साथ नहीं था, दंगल मैदान में था।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *