• Wed. Jan 26th, 2022

अफसोस : गर्भवती पत्नी के इलाज के लिए सिपाही को नहीं मिली छुट्टी, गर्भ में ही बच्चे की मौत

गाजीपुर निवासी सिपाही के आरोप पर गोरखपुर के गीडा थाना प्रभारी को कोस रहे हैं सभी

गोरखपुर जिले के गीडा थाना अंतर्गत नौसड़ चौकी पर तैनात एक सिपाही का आरोप है कि पत्नी की तबीयत खराब थी, मगर कई बार मांगने पर भी थाना प्रभारी ने छुट्टी नहीं दी। छुट्टी के अभाव में समय से इलाज न करवा पाने के कारण बच्चे की गर्भ में ही मौत हो गई। मौत की सूचना एसएसपी को देने पर सात दिन का अवकाश मिला। सोशल मीडिया पर मामला वायरल होने के बाद एसएसपी ने सीओ ऑफिस को जांच सौंप दी है।

नौसड़ चौकी पर 15 नवंबर से तैनात सिपाही कुमार रवि का आरोप है कि 20 दिसंबर को गीडा थाना प्रभारी विनय कुमार सरोज से आठ माह की गर्भवती पत्नी के इलाज के लिए छुट्टी मांगी थी। उसने बताया था कि अगर पत्नी को समय से इलाज नहीं मिला तो कोई भी अप्रिय घटना हो सकती है।

Advertisement

सिपाही कुमार रवि ने बताया कि 20 दिसंबर को छुट्टी के आवेदन को थाना प्रभारी ने दरकिनार कर दिया था। 23 दिसंबर को दोबारा छुट्टी के लिए आवेदन दिया। इस बार भी थाना प्रभारी ने छुट्टी नहीं दी। मूलत: गाजीपुर जिले के रहने वाले कुमार रवि ने बताया कि उसके परिवार में सिर्फ घर पर मां और 15 साल का एक छोटा भाई है। पत्नी की गर्भावस्था में स्थिति ठीक न होने पर उसे तत्काल उच्चस्तरीय चिकित्सा सुविधा की जरूरत थी। उसके अभाव में नवजात की मौत हो गई।

थानेदार बोले, आवेदन मिलते ही दी छुट्टी
उधर, थानेदार विनय सरोज का कहना है कि आवेदन मिलते ही छुट्टी दे दी गई। सिपाही इस समय छुट्टी पर ही है। एसपी नार्थ मनोज अवस्थी ने बताया कि प्रकरण की जांच सीओ कर रहे हैं। जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।