• Wed. Jan 26th, 2022

विंध्याचल : मंदिर में बिना मास्क गए तो लगेगा 500 रुपए का जुर्माना

विंध्यवासिनी माता के चरण स्पर्श पर भी रोक

मिर्जापुर में माता विंध्यवासिनी के मंदिर में मंगलवार की सुबह से नो मास्क नो इंट्री का नियम लागू कर दिया गया है। यह निर्णय श्रीविंध्य पंडा समाज और जिला प्रशासन के बीच सोमवार की देर शाम हुई बैठक में लिया गया। बिना मास्क प्रवेश करने या सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने पर 500 रुपए आर्थिक दंड भी वसूला जाएगा।

मंदिर पर आने वाले पुलिस, पंडा और सभी दर्शनार्थियों पर यह नियम लागू होगा। मंदिर में दोपहर चार बजे के बाद चरण स्पर्श की मिली छूट को भी समाप्त कर दिया गया है। अब भक्तों के चरण स्पर्श पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है।

Advertisement

नए साल पर एक जनवरी को करीब चार लाख से अधिक दर्शनार्थियों के आने से मंदिर प्रशासन परेशान था। दरअसल, एक बार फिर बढ़ते हुए कोरोना केस को देखते हुए यह नियम अगले आदेश तक लागू किया गया है। नगर मजिस्ट्रेट विनय कुमार ने बताया कि विंध्याचल धाम में आने वाले भक्तों की भीड़ और उन्हें कोरोना के संक्रमण से सुरक्षा को देखते हुए मंगलवार से दर्शन पूजन करने के लिए नए नियम लागू किया गया है।

विंध्यवासिनी धाम की सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मी मन्दिर की सीढ़ियां चढ़ने की अनुमति उन्हें ही देंगे जिसने मास्क पहन रखा हो। इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए जमीन पर बने घेरे के बीच से कतार में होकर भक्तों ने दर्शन के लिए जाना पड़ेगा। मास्क का प्रयोग न करने वालो से कोविड के नियमों के तहत पांच सौ रुपया वसूला जाएगा। स्थानीय नागरिकों से नगर मजिस्ट्रेट ने अपील की है कि वह प्रातः दूर दराज से आने वाले भक्तों की सुविधा के लिए दिन में दर्शन के बजाय शाम को दर्शन करें। जिससे कम भीड़ हो बाहर से आने वाले भक्त गण आराम से दर्शन कर सकें।